एक्सपर्ट्स से जानें कैसे रक्तदान पहुंचाता है हार्ट और लिवर को फायदा

0
58

नई दिल्ली : हर साल 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन बेहद खास है क्योंकि इसके माध्यम से लोगों को बताया जाता है कि कैसे रक्तदान करने से वे हज़ारों लोगों की जान बचा सकते हैं। हर दिन हज़ारों लोगों को हेल्थ के लिए या फिर जीवित रहने के लिए रक्तदान से मिले खून या खून से निकलने वाले दूसरे अवयवों की ज़रूरत पड़ती है। अमेरिकन रेड क्रॉस के अनुसार, एक व्यक्ति के रक्तदान से तीन लोगों की जान बचाई जा सकती है।

1. हार्ट और लिवर की सेहत

रक्‍तदान करते रहना इस लिहाज़ से भी फायदेमंद होता है कि यह हार्ट और लिवर के रोगों से बचाव करता है, जो कि शरीर में आयरन ओवरलोड होने की वजह से पैदा होते हैं। इसलिए ब्‍लड डोनेट करते रहना चाहिए ताकि शरीर में आयरन की आवश्‍यक मात्रा बनी रहे और विभिन्‍न प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी परेशानियों का जोखिम भी कम से कम रहे। रक्‍तदान करना समुदाय के लिए भी हितकारी होता है और ऐसा करने से रक्‍तदाता और रक्‍त प्राप्‍त करने वालों के स्‍वास्‍थ्‍य को फायदा पहुंचता है।

2. रक्‍त कोशिकाओं का निर्माण

किसी भी व्‍यक्ति के रक्‍तदान के बाद, शरीर उस नुकसान की भरपाई के लिए नई रक्‍त कोशिकाओं का निर्माण करने में जुट जाता है। ये नई रक्‍तकोशिकाएं व्‍यक्ति के अच्‍छे स्‍वास्‍थ्‍य को बनाए रखने में मददगार होती हैं।

3. कैंसर का जोखिम कम करना

रक्‍तदान करने से कैंसर का जोखिम भी कम होता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि रक्‍त में मौजूद आयरन शरीर के लिए सेहतमंद स्‍तर पर बना रहता है। शरीर में ज़रूरत से ज़्यादा आयरन कैंसर को जोखिम भी बढ़ाता है।

4. हिमोक्रोमेटोसिस का खतरा कम

ब्‍लड डोनेट (रक्‍तदान) करने से हिमोक्रोमेटोसिस का जोखिम घटता है। यह हेल्‍थ कंडिशन शरीर में अत्‍यधिक मात्रा में आयरन (लौह तत्‍व) एकत्र होने की वजह से पैदा होती है।

तो इससे आपके शरीर को इस तरह के फायदे पहुंचेंगे:

• दिल के दौरे और लिवर की बीमारियों का ख़तरा कम होता है।

• नई रक्त कोशिकाएं बनती हैं।

• हेमोक्रोमैटोसिस का ख़तरा कम होता है।

• वजन संतुलित बना रहता है।

• समय से पहले बुढ़ापा आने से रोकने में मदद मिलती है।

• उपचार तेज़ी से होता है।

• कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है।

• तनाव कम होता है।

• आप भावनात्मक रूप से बेहतर बनते हैं।

• शारीरिक स्वास्थ्य बेहतर होता है।

• नकारात्मक भावनाओं से छुटकारा पाने में मदद मिलती है।

• आपस में जुड़ने की भावना आती है और अकेलापन कम होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here