वित्त मंत्री की किसानों के साथ बैठक में कोई फैसला न हुआ ताे संघर्ष तेज होगा

0
35

जालंधर : गन्ने की बकाया राशी न मिलने से नाराज किसानों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। वित्त मंत्री के साथ बैठक में कोई फैसला न हुआ तो कड़ा संघर्ष किया जाएगा। फिलहाल संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से वीरवार को नेशनल हाईवे जाम करने का फैसला टाल दिया है। बाद दोपहर किसान जालंधर में वित्त एवं सहकारी मंत्री हरपाल सिंह चीमा के साथ बैठक करेंगे। बैठक में मांगों की समस्या का समाधान किया जाएगा।

संयुक्त किसान मोर्चा के वरिष्ठ सदस्य हरमीत सिंह तता मनजीत सिंह राय ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा में शामिल पंजाब के 16 किसान संगठन चीनी मिलों की ओर पड़े बकाया लेने के मामले को लंबे समय से संघर्ष कर रहे है। 26 मई को सुबह 10 से 2 बजे तक नेशनल हाईवे जाम करने की घोषणा की थी। राज्य के वित्त एवं सहकारिता मंत्री हरपाल सिंह चीमा की ओर से किसानों के साथ बैठक करने की पेशकश की गई। जालंधर के सर्किट हाउस में वीरवार को 4.30 बजे बैठक करने की बात कही।

वीरवार को केन कमिश्नर की ओर से 16 किसान संगठनों को बैठक में भाग लेने के लिए निमंत्रण दिया है। इसके बाद नेशनल हाईवे जाम करने का फैसला फिलहाल टाल दिया है। मामले को लेकर 16 किसान संगठनों के पदाधिकारियों ने बैठक में मुद्दे रखने के लिए रणनीति तैयार कर रहे है। उन्होंने कहा कि राज्य की चीनी मिलों की तरफ 900 करोड़ रुपये के करीब बकाया पड़ा है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here