तीसरे सप्ताह घटा विदेशी मुद्रा भंडार

0
64

मुंबई: अपने विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Currency Asset) में एक बार फिर से गिरावट हुई है। यह लगातार तीसरा सप्ताह है जबकि इसमें कमी हुई है। इससे पहले सिर्फ दो सप्ताह इसमें बढ़ोतरी हुई थी। उससे पहले लगातार 10 सप्ताह तक इसमें कमी भी हुई थी।

5.87 अरब डालर की हुई है गिरावट

रिजर्व बैंक (RBI) के आंकड़ों के मुताबिक बीते 17 जून को समाप्त सप्ताह में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में 5.87 अरब डॉलर की कमी हुई है। इसी के साथ अब अपना विदेशी मुद्रा भंडार घट कर 590.588 अरब डॉलर रह गया है। इससे पिछले सप्ताह (10 जून 2022 को समाप्त सप्ताह में) विदेशी मुद्रा भंडार 4.599 अरब डॉलर घटकर 596.458 अरब डॉलर रह गया था। ऐसा लगातार तीसरे सप्ताह हुआ, जबकि भारत का विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Currency Reserve) घटा है।

20 मई से पहले भी लगातार 10 सप्ताह तक घटा था

अपना विदेशी मुद्रा भंडार एक महीने से अधिक समय तक 600 बिलियन डॉलर से नीचे रहा था। इसके साथ ही यह लगातार 10 सप्ताह तक गिरा था। तब जा कर 20 मई 2022 और 27 मई 2022 को समाप्त सप्ताह के दौरान इसमें बढ़ोतरी हुई थी। आरबीआई के साप्ताहिक सांख्यिकीय आंकड़ों के मुताबिक 27 मई को सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 3.854 अरब डॉलर बढ़कर 601.363 अरब डॉलर तक पहुंच गया था।

फॉरेन करेंसी असेट में गिरावट
दस जून को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट का कारण विदेशी मुद्रा आस्तियों या फॉरेन करेंसी असेट में आई गिरावट है। यह कुल विदेशी मुद्रा भंडार का एक महत्वपूर्ण घटक है। आंकड़ों के अनुसार समीक्षाधीन सप्ताह में फॉरेन करेंसी असेट (FCA) 5.362 अरब डॉलर घटकर 526.882 अरब डॉलर रह गया। डॉलर में अभिव्यक्त विदेशी मुद्रा भंडार में रखे जाने वाली विदेशी मुद्रा आस्तियों में यूरो, पौंड और येन जैसी गैर-अमेरिकी मुद्राओं में मूल्यवृद्धि अथवा मूल्यह्रास के प्रभावों को शामिल किया जाता है।

रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, आलोच्य सप्ताह में स्वर्ण भंडार का मूल्य भी 25.8 करोड़ डॉलर की गिरावट के साथ 40.584 अरब डॉलर रह गया।
समीक्षाधीन सप्ताह में, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के पास जमा विशेष आहरण अधिकार (SDR) 23.3 करोड़ डॉलर घटकर 18.155 अरब डॉलर रह गया। आईएमएफ में रखे देश का मुद्रा भंडार भी 1.7 करोड़ डॉलर घटकर 4.968 अरब डॉलर रह गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here