3500 रुपए रिश्वत मांगने के आरोप में विजीलैंस ब्यूरो द्वारा डाक्टर का निजी सहायक गिरफ़्तार

0
1453

चंडीगढ़ .
मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा भ्रष्टाचार के विरुद्ध अपनाई ज़ीरो सहनशीलता नीति के अंतर्गत पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा आरंभ की गयी मुहिम के अंतर्गत आज सिवल अस्पताल मानसा में तैनात डाक्टर अशीष कुमार के निजी सहायक रक्खा सिंह लक्खा को 3500 रुपए की रिश्वत की मांगने के दोष अधीन गिरफ़्तार किया गया है।
इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये विजीलैंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि मानसा शहर के निवासी हरदीप सिंह द्वारा मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाईन में की गई आनलाइन शिकायत की पड़ताल के उपरांत उपरोक्त मुलजिम को गिरफ़्तार किया गया है।
अन्य विवरण देते हुये प्रवक्ता ने बताया कि उक्त शिकायतकर्ता ने दोष लगाया है कि उक्त मुलजिम रक्खा सिंह ने उसकी (शिकायतकर्ता) पत्नी का ऑपरेशन करवाने के बदले 3500 रुपए की माँग की थी। उन्होंने बताया कि शिकायतकर्ता ने इस सम्बन्धी सारी बातचीत अपने मोबाइल पर रिकॉर्ड कर ली और सबूत के तौर पर विजीलैंस ब्यूरो को सौंप दी।
प्रवक्ता ने बताया कि इस शिकायत की जांच के उपरांत पता लगा कि उक्त निजी सहायक ने शिकायतकर्ता से रिश्वत की माँग की थी। उन्होंने बताया कि उक्त पूछताछ के आधार पर उक्त दोषी को गिरफ़्तार करके उसके विरुद्ध भ्रष्टाचार रोकथाम कानून के अंतर्गत विजीलैंस ब्यूरो थाना, बठिंडा रेंज में रिश्वतखोरी का मुकदमा दर्ज किया गया है और इस सम्बन्धी आगे कार्यवाही जारी है। उन्होंने कहा कि इस केस में संबंधित डाक्टर की भूमिका को तफ्तीश के दौरान विचारा किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here