CBI ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार को 50 करोड़ के घोटाले में गिरफ्तार किया

    0
    76

    नई दिल्ली: दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार को CBI ने गिरफ्तार कर लिया है। राजेंद्र कुमार पर भ्रष्‍टाचार का आरोप है। सीबीआई की टीम ने सोमवार को राजेंद्र कुमार के घर और दफ्तर में छापेमारी की, जिसके बाद उनकी गिफ्तारी की गई। राजेंद्र कुमार के अलावा सीबीआई ने तरुण शर्मा, संदीप कुमार, दिनेश गुप्‍ता, अशोक कुमार को भी गिरफ्तार किया है। जांच में 50 करोड़ के घोटाले की बात सामने आई है। घोटाले में राजेंद्र कुमार को मुख्‍य सूत्रधार बताया जा रहा है।

     गौरतलब है कि पिछले साल 15 दिसंबर को सीबीआई ने मामले में मुख्यमंत्री कार्यालय के करीब राजेंद्र कुमार के दफ्तर में छापा मारा था। राजेंद्र कुमार के खिलाफ आरोप हैं कि उन्होंने पिछले कुछ वर्षों के दौरान दिल्ली सरकार के विभागों से ठेके दिलाने में एक खास कंपनी को लाभ पहुंचाया।

    एक निजी कंपनी को 2007 से 2009 के दौरान पांच ठेकों में कथित तौर पर 9.5 करोड़ रुपये का लाभ पहुंचाने के आरोप में राजेंद्र कुमार के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 120 बी (आपराधिक षडयंत्र) और भ्रष्टाचार निवारण कानून की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

    सीबीआई को शिकायतें मिली थीं जिसमें कहा गया था कि कुमार ने अपनी नियुक्ति के दौरान निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाने का काम किया।

    राजेन्द्र कुमार दिल्ली सरकार में परिवहन और माध्यमिक शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण विभाग में रह चुके हैं। राजेन्द्र कुमार के खिलाफ दिल्ली डायलॉग के पूर्व सचिव आशीष जोशी ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उनकी शिकायत एंट्री करप्शन ब्रांच से की थी।

    आशीष जोशी ने एसीबी को पत्र लिखकर राजेन्दर कुमार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे जिसमें राजेन्द्र पर शिक्षा और आईटी विभाग में अपने कार्यकाल के दौरान बेनामी कंपनियां बनाकर वित्तीय धांधली किये जाने की बात कही गई थी।

    गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेन्द्र कुमार 1989 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। केजरीवाल ने राजेन्द्र कुमार को अपने 49 दिन के पहले कार्यकाल के दौरान भी प्रधान सचिव बनाया था।

     

    आप ने बताया बदले की कार्रवाई

    इस गिरफ्तारी दिल्‍ली उपमुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस तरह की कार्रवाइयों के जरिए दिल्‍ली सरकार को अपाहिज करने की साजिश रची जा रही है। केंद्र सरकार खास मकसद के तहत अफसरों का तबादला कर रही है, जहां अफसरों की जरूरत भी नहीं है वहां वे अपनी पसंद के अधिकारी भेज रहे हैं।

    भाजपा दिल्‍ली में हार का बदला यहां की जनता से ले रही है। उन्‍होंने कहा कि राजेंद्र कुमार को गिरफ्तार करने के पीछे मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल को परेशान करने की तैयारी है। विरोधी इस बात से डर गए हैं कि आम आदमी पार्टी पंजाब में जीत दर्ज करने वाली है।

    गौरतलब है कि राजेन्द्र कुमार दिल्ली सरकार में परिवहन और माध्यमिक शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण विभाग में रह चुके हैं। अरविंद के केजरीवाल के सबसे प्रिय नौकरशाह कहे जाने वाले राजेन्द्र कुमार मूलत: बिहार की राजधानी पटना के रहने वाले हैं। 48 साल के राजेन्द्र कुमार दिल्ली आईआईटी से बीटेक हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here