चंडीगढ़ में यूटी प्रशासन का एक्शन प्लान, बनेगा देश की स्लम फ्री सिटी, ब्लूप्रिंट तैयार

0
53

चंडीगढ़ : चंडीगढ़ शहर के चारों हिस्सों में बसी झुग्गी झोपड़ियां इसके मूल अस्तित्व को नुकसान पहुंचाती रही हैं। इसके मॉडर्न आर्किटेक्चर स्वरूप के लिए यह एक धब्बे की तरह रही हैं। साल दर साल स्लम नए एरिया में बढ़ता गया और शहर का असल स्वरूप बदलता चला गया। कई बार तो दो अलग चंडीगढ़ होने की बात तक होने लगी। एक वह चंडीगढ़ जिसमें समृद्ध वर्ग रहता है और दूसरा झुग्गी झोपड़ी और कॉलोनियों वाला वह चंडीगढ़ जो कमजोर और मजदूर वर्ग का ठिकाना है। लेकिन अब कुछ दिनों बाद आपको चंडीगढ़ बदला बदला सा नजर आएगा। कच्चे स्ट्रक्चर शहर में नजर नहीं आएंगे। पूरा शहर अर्बनाइज्ड और प्लान्ड दिखेगा। जैसा इसके क्रिएटर ली कार्बूजिए ने इसको गढ़ते समय सोचा था। देश का सबसे नियोजित शहर।

ब्लूप्रिंट को लागू करने का पूरा एक्शन प्लान तैयार है। इस पर प्रशासन ने शेड्यूल भी जारी कर दिया है। मई माह के पहले ही दिन शहर के सबसे बड़े स्लम एरिया में से एक कॉलोनी नंबर-4 को गिराकर 2000 करोड़ रुपये की 65 एकड़ जमीन को खाली कराया गया है। अब मई के आखिर तक दो और बड़ी कॉलानियों को गिराने के आदेश जारी हो चुके हैं। इंडस्ट्रियल एरिया फेज-1 स्थित संजय कॉलोनी और सेक्टर-25 की जनता कॉलोनी को गिराया जाएगा। अगले 20 दिनों में कभी भी यह कॉलोनी हटा दी जाएंगी। अभी तक चंडीगढ़ 370 एकड़ से अधिक जमीन को स्लम हटाकर खाली करा चुका है। जिसकी कीमत 12 हजार करोड़ रुपये से अधिक है। अभी भी करीब 200 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा है। जिसे हटाने की तैयारी हो चुकी है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here