Select Page

भारतीय संगीत में लच्चर गानो के लिए कोई स्थान नही: कुलविंदर सिंह जंडा।

भारतीय संगीत में लच्चर गानो के लिए कोई स्थान नही: कुलविंदर सिंह जंडा।

होशियारपुर, जनगाथा टाइम्स: (सिमरन)

होशियारपुर: संगीत मानव जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। संगीत का हमारे सवास्थय पर बहुत अच्छा असर होता है औैर हमारे मन को भी शांत बनाए रखने में सहायक होता है। उपरोक्त शब्द सोसाईटी फार मयूजिक एंड कल्चर के अध्यक्ष स. कुलविंदर सिंह जंडा ने सोसाईटी की एक बैठक को संबोधन करते हुए
कहे।

बैठक को संबोधन करते हुए स. कुलविंदर सिंह जंडा ने कहा कि संगीत वो शक्तिशाली यंत्र है, जो हमारी ध्यान शक्ति को बढ़ाता है और हमें जीवन में सफ़लता की ओर अग्रसर करता है। उन्होने कहा कि भारतीय संगीत प्राचीन काल से ही विश्व भर में लोकप्रिय है। भारतीय संगीत का प्रांरभ वैदिक काल से भी पूर्व का है। संगीत का मूल स्त्रोत वेदो को ही माना जाता है। बैठक में सोसाईटी के सचिव रंजीव तलवाड ̧ ने आजकल के संगीत में लच्चर गानो, गलत शब्दावली व बढ रहे हथियारो आदि के चलन पर चिन्ता जाहिर करते हुए कहा कि भारतीय संगीत, जो कि पूरे विश्व भर में प्रसिध्द है उस में लच्चर गानो के लिए कोई स्थान नही है।

उन्होने कहा कि सोसाईटी फार मयूजिक एंड कल्चर शुध्द संगीत के प्रचार व प्रसार के लिए भरसक प्रयत्न कर रही है, जिस के तहत भारत के शस्त्रिये संगीत को प्रफुल्लित करने में विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

रंजीव तलवाड ̧ ने जानकारी देते हुए बताया कि सोसाईटी दवारा जल्द ही इस संबंध में एक शस्त्रिये संगीत का कार्यक्रम करवाया जा रहा है, जिस में संगीत जगत की नामवर हस्तियां भाग लेंगी।

इस अवसर पर नरिंदर कुमार, राजेश कुमार, दीपक सैनी, दर्शन सिंह, अजीत सिंह, मंजीत सिंह, संजीव कुमार व सोसाईटी के अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *