Select Page

शांतमयी रोष प्रदर्शन का स्वागत, बर्दाश्त नहीं की जाएगी धक्केशाही: व्यापारिक संगठन

शांतमयी रोष प्रदर्शन का स्वागत, बर्दाश्त नहीं की जाएगी धक्केशाही: व्यापारिक संगठन

होशियारपुर ।  सीएए व एनआरसी के विरोध में बंद के आह्वान से परेशान विभिन्न व्यापारिक व अन्य संगठनों ने जिलाधीश को मांग पत्र सौंपकर शहर में अमन कानून की स्थिति बनाए रखने की अपील की। इस अवसर पर मेयर शिव सूद, जिला व्यापार मंडल के प्रधान गोपी चंद कपूर, विजय अग्रवाल, उमेश जैन, जसवीर शीरा, एडवोकेट आर.पी. धीर, विवेक शर्मा, सुनील नागोरी, सतीश बावा, सुरिंदर भट्टी, चिंटू हंस, बब्बा हांडा, विवेक गुप्ता, कृपाल सिंह, संदीप दुआ, विनोद परमार, विवेक सैनी, टोनू सेठी, जिंदू सैनी, राजा सैनी, रमन घई, अश्विनी गैंद, मुखी राम, करियाना एसोसिएशन के प्रधान यशपाल, कंप्यूटर एसोसिएशन के प्रधान अमनदीप सग्गी, क्लॉथ व्यापारी अशोक जैन, दर्पण गुप्ता, सुरेश भाटिया बिट्टू, होलसेल मनियारी व्यापार मंडल के महामंत्री राकेश भारद्वाज, होशियारपुर होलसेल यूनियन के प्रधान रोहित प्रभाकर, सिक्ख संगठन, बाला जी क्रांति सेना, भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज, राजपूत सभा तथा अन्य संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने जिलाधीश ईशा कालिया से भेंट कर उन्हें मांग पत्र सौंपा। संस्थाओं ने कहा कि शहर के माहौल को ठीक बनाए रखने के लिए कानून व्यवस्था बनाने हेतु कड़े कदम उठाए जाएं। उन्होंने चेतावनी दी कि बंद किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जिलाधीश ने संस्थाओं को आश्वासन दिया कि शहर में अमन कानून की स्थिति बनाए रखने के लिए कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी और शांति भंग करने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी।

विभिन्न संगठनों द्वारा 29 जनवरी दिन बुधवार को दी गई बंद की काल के विरोध में शहर की विभिन्न संस्थाओं व व्यापारिक संगठनों ने जिला भाजपा व्यापार सैल के प्रधान दर्पण गुप्ता की अगुवाई में एक बैठक हुई। जिसमें उपस्थित दुकानदारों व व्यापारियों ने कहा कि बंद की काल देने वाली संस्थाओं द्वारा कॉल को वापिस लिए जाने व इसके बदले शांतमयी ढंग से रोष प्रदर्शन करने की बात कही जाना सराहनीय है। शांतमयी ढंग से प्रदर्शन कर कोई भी अपनी बात रख सकता है। लेकिन, हिंसा करने की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती।इसलिए प्रदर्शन करने वाली संस्थाओं का फर्ज बनता है कि वे शरारती तत्वों पर नजर रखें ताकि, शांतमयी प्रदर्शन की आड़ में कोई शहर का माहौल खराब न करे। उन्होंने कहा कि यह प्रशासन का भी फर्ज बनता है कि वे कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हर पुख्ता प्रबंध करें। अगर किसी ने प्रदर्शन की आड़ में जबरदस्ती बाजार बंद करने का प्रयास किया तो दुकानदार व व्यापारी वर्ग इसका कड़ा विरोध करेंगे। जिसकी सारी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *