Select Page

श्री भगवान परशुराम सेना ने वोटरों को जारूगक करने हेतु की बैठक

श्री भगवान परशुराम सेना ने वोटरों को जारूगक करने हेतु की बैठक

होशियारपुर(शाम शर्मा ): श्री भगवान परशुराम सेना की बैठक मुख्य सलाहकार राजीव शर्मा की अध्यक्षता में भरवाई रोड पर हुई। बैठक में जिलाध्यक्ष आशुतोष शर्मा विशेष तौर पर शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने अपनेे संबोधन में कहा कि श्री भगवान परशुराम सेना लोगों को अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए जागरूक कर रही है और इसी कड़ी में अलग अलग मोहल्लों, गांवों व वार्डो में जागरूकता बैठकें करवाई जा रही हैं। बैठक में जिला महासचिव अक्षय पराशर, प्रधान शेरपुर बाहतियां हरीश डोगरा, सचिव रोहित रावल, सुरिंदर कुमार बिटन भी मौजूद थे।
इस दौरान मीटिंग को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष आशुतोष शर्मा ने कहा कि लोगों को अपने ज्यादा से ज्यादा मताधिकार का प्रयोग करें तांकि सही व्यक्ति के हाथों में देश की सत्ता सौंपी जा सके। उन्होंने कहा जिनता वोट प्रतिशत ज्यादा होगा उतना ही देश तरक्की व उन्नति की और अग्रसर होगा। शर्मा ने कहा ज्यादा मताधिकार का प्रयोग मंत्रियों को विकास काम करवाने के लिए मजबूर करता है। उन्होंने कहा 70 सालों में सरकार द्वारा देश का विकास करना तो दूर 50 प्रतिशत लोगों को भी मतदान केंद्रों तक पहुंचाया जा सका। आज के दौर में भी प्रशासन द्वारा मतदान की जागरूकता व्यक्ति विशेषों तक ही सीमित रह गई है जिस कारण आज भी सोया हुआ वोटर सोया हुआ नजर आ रहा है।
शर्मा ने कहा आचार्य चाणक्य ने कहा कि राज्य स्थिर है, राजा समय के साथ बदलते रहते है। आचार्य चाणक्य ने स्पष्ट रूप से जनता को मताधिकार का प्रयोग करने के संद्रर्भ में राज्य के हितों को देख कर अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए कहा था। उन्होंने कहा था जो प्रजा राज्य के हितो को सर्वप्रिय रख कर वोट करती है वो राज्य कभी भी किसी भी प्रतिस्थिती में डोलता नहीं।
अक्षय पराशर ने कहा कि हर चुनावों में विकास से नदारद राजनीतिक पार्टियां लोगों को मुद्दों से भटकाकर 84 के दंगों की याद दिलाती है। जहां एक राजनीतिक पार्टी ने सत्ता हथियाने की खातिर पंजाबियत को 84 दंगे देकर शर्मशार किया वहीं दूसरी राजनीतिक पार्टी 84 दंगों के नाम पर इंसाफ की बात नहीं करती अपनी राजनीतिक रोटियां सेकनें के लिए लोगों को 84 दंगों की याद दिलाती है जो कहीं न कहीं पंजाबियों के जले पर नमक छिडक़ने का काम करती है। उन्होंने कहा किसी भी मंच से किसी भी राजनीतिक पार्टी ने 84 दंगों दौरान मारे गये करीब 35 हजार हिंदूओं को इंसाफ दिलवाने की मांग नहीं की। बल्कि मांग उठाने वाले प्रतिनिधियों को भी अपने मंचों से ओलोप करने का काम किया हैं। उन्होंने राजनीतिक पार्टी को चेतावनी दी की कि चुनावों के दौरान 84 दंगों को मुद्दा न बनाया जाए। पंजाब बिना इंसाफ के 84 दंगों से आगे आ चुका है।
इस अवसर पर अध्यक्ष भवानी नगर वरूण पंडित, हनी तनेजा, राजेश नागी, पंकज बेदी के अलावा सेना व हिंदू संघ के अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *