Select Page

कोकाकोला फैक्ट्री के खिलाफ लोगों ने किया रोष प्रदर्शन, उद्योग मंत्री अरोड़ा का जलाया पुतला

कोकाकोला फैक्ट्री के खिलाफ लोगों ने किया रोष प्रदर्शन, उद्योग मंत्री अरोड़ा का जलाया पुतला

होशियारपुर (शाम शर्मा )। पानी बचाओ-पंजाब बचाओ के बैनर तले कोकाकोला फैक्ट्री के खिलाफ वीर प्रताप राणा एवं जतिंदर भोलू की तरफ से अलग-अलग गांवों के निवासियों के सहयोग से दिए जा रहे धरने के दौरान आज रविवार 10 मार्च को एक रैली निकाली गई और कोकाकोला फैक्ट्री के गेट के समक्ष उन्होंने जमकर रोष प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री पंजाब सुन्दर शाम अरोड़ा का पुतला भी जलाया। इस मौके पर बड़ी संख्या में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए वीर प्रताप राणा ने कहा कि हम होशियारपुर को रेगीस्थान नहीं बनने देंगे और कोकाकोला फैक्ट्री जब तक बंद नहीं की जाती तब तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इस फैक्ट्री लगाने से पहले इन्होंने यहां सर्वे किया था कि यहां पर धरती के नीचे बहुत पानी है और इसके बाद ही यह फैक्ट्री यहां आई है तथा यह हमें मात्र 10-15 साल में ही बर्बाद करके यहां से चली जाएगी। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि तमिलनायडू, केरला, राजस्थान, बनारस एवं मेघालय आदि इलाकों में लोगों ने इसके दुष्प्रभावों के चलते संघर्ष करके फैक्ट्रियां बंद करवाई हैं। यहां तक कि तमिलनायडू में 10 लोगों ने फैक्ट्री बंद करवाने के लिए गोली तक खाई और अपनी शहादत देकर इलाके की रक्षा की। यह अंग्रेजी कंपनी है, जो हमारा फायदा नहीं बल्किग हमें बर्बाद करने आई है और यह सभी जानते हैं कि अंग्रेज कभी हमारा भला नहीं चाहते। इसलिए अगर हमें गोली भी खानी पड़ी तो हम पीछे नहीं हटेंगे। इस दौरान जतिंदर भोलू ने कहा कि फैक्ट्री लगाने की आड़ में जहां सरकारी तंत्र पूरी तरह से बिक चुका है और इलाके के कई पंच-सरपंच भी फैक्ट्री की बोली बोल रहे हैं और यह सभी जानते हैं कि वे क्यों ऐसा कर रहे हैं। मगर आम जनता इस संघर्ष में उनके साथ है और वे फैक्ट्री को बंद करवाकर ही दम लेंगे। गोल्डी चक्क साधू, अजमेर पठानिया, मंजीत सिंह, गुरप्रीत गोपी, सतीश कुमार, बबलू खडक़ां, राकेश पटियाडिय़ां, आशा रानी, कमलजीत कौर, सतनाम कौर, ऊषा रानी, बेअंत सिंह, मनोहर लाल, विजय कुमार जहानखेलां, अमित कुमार, कमलेश रानी, सुमन बाला व पूनम कुमारी सहित बड़ी संख्या में इलाका निवासियों ने कोकाकोला फैक्ट्री के खिलाफ जमकर रोष प्रदर्शन किया और सरकार से मांग की कि वे इस फैक्ट्री को यहां न लगने दे और इसे किसी और जगह पर शिफ्ट किया जाए।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *