Select Page

अमन एकता के अभिलाषी ; ठाकुर दलीप सिंघ जी

अमन एकता के अभिलाषी ; ठाकुर दलीप सिंघ जी

श्री ठाकुर दलीप सिंघ जी महान विद्वान,विद्वानों के विद्वान, गरीबों के हमदर्द, स्त्री जाति को समानता का हक़ दिलाने वाले,सत्य पर पहरा देने वाले, श्री सतगुरु जगजीत सिंघ जी के अनन्य सिख, अमन एकता चाहने वाले, सब धर्मों का आदर करने वाले, हिन्दू-सिख एकता चाहने वाले, निस्वार्थी और त्याग की मूरत हैं।

श्री भैणी साहिब, मस्तानगढ़, श्री जीवन नगर में आप के नाम की एक मरला भी जमीन-जायदाद नहीं है। अमीर व्यक्तियों के भारत के कई प्रांतों में फार्म, कारखाने, हस्पताल और कारोबार चलते है।  श्री सतगुरु नानक देव जी का हुकम है, ‘भुखिआ भुख न उतरी जे बंना पुरीआ भार ॥’

एक बार, श्री भैणी साहिब प्रस्ताव पास हुआ कि श्री ठाकुर दलीप सिंघ जी का धान काटने जाना है (जो करीब 100 एकड़ में लगा था) श्री  महाराज बीर सिंघ जी को किसी प्रकार पता लग गया। श्री महाराज बीर सिंघ जी ने मास्टर सम्पूर्ण सिंघ, हरदम सिंघ और दास को श्री ठाकुर जी के पास भेजा कि तुम्हारा धान काटा जाना है। सत्करयोग बीबी गुरमीत कौर जी भी मस्तानगढ़ थे।   माल वाले चुबारे के पास बैठकर मास्टर जी के साथ विचारें हुई। दूसरी तरफ भाईचारा हथियार लिए कोठी की तरफ घुम रहा था । एक सिंघ जहाँ हम बैठे थे, कभी इधर या कभी उधर जा रहा था।

श्री महाराज बीर सिंघ जी का विचार था कि अगर काके (पुत्र) से इंतजाम नहीं होता तो मुझे बताओ। डी. सी. साहब और एस. पी. साहब के पास जाने की विचार हुई। मैंने श्री ठाकुर जी को विनती की; कि अगर  ये  धान काटे तो हम ने क्या करना है ? श्री ठाकुर जी ने उत्तर दिया कि “हम भी सतगुरु जी के सिख हैं और धान भी सतगुरु जी का “, काटने दो कोई बात नहीं। वह धान, कीमती सामान,चने आदि सब कुछ लूट कर ले गए किसी ने नहीं रोका। इससे बड़ी त्याग की मिसाल नहीं मिल सकती।

श्री महाराज बीर सिंघ जी को दूसरा अटैक वर्ष 1999 ई. में हुआ। आप की बोलने की शक्ति कम हो गयी थी। श्री ठाकुर जी ने श्री जीवन नगर का प्रबंध संभाल लिया। आप जी ने होले-मेले करने बंद कर दिए कहा; सतगुरु जी के बिना कैसे होले-मेले। श्री जीवन नगर के लिए दसवंद (दान) लेना भी बंद कर दिया । आप जी ने बचन किया कि मैनें श्री जीवन नगर को भैणी साहिब से अलग नहीं ने देना श्री सतगुरु जगजीत सिंघ जी के ऊपर आप जी की अटूट श्रद्धा थी। श्री सतगुरु जगजीत सिघ जी ने आप जी को भैणी साहिब बुलाया और बचन किया कि श्री जीवन नगर का एक महीने का कितना खर्चा है, मुझसे ले जाया करो, प्रबंधकों को हुकम कर दिया। श्री ठाकुर जी ने वापिस आते समय प्रबंधकों से पैसे माँगे तो उत्तर मिला कि ठाकुर उदय सिंघ जी ने रोक रखा है। आप जी ने ठाकुर उदय सिंघ जी को फ़ोन करके पूछा तो उत्तर मिला कि सतगुरु जी का हुकम है तो मैं कौन होता हूँ रोकने वाला ।पर पैसे नहीं मिले। इस प्रकार पैसे न मिलने के बावजूद भी श्री जीवन नगर का लंगर सतगुरु जी की किरपा से चलता रहा।    

श्री सतगुरु जगजीत सिंह जी अपने भाई महाराज बीर सिंह जी की अंतिम अरदास पर आना चाहते थे, पर ठाकुर उदय सिंह जी व संत जगतार सिंह जी ने आने नहीं दिया। श्री ठाकुर दलीप सिंह जी ने आसा की वार में माइक पर बचन किया कि सारी संगत अरदास करे, श्री सतगुरु जगजीत सिंह जी दर्शन देने की कृपा करें। यह भी बचन किए कि ठाकुर उदय सिंह व संत जगतार सिंह यदि चाहें तो सतगुरु जी को ला सकते हैं । पर इस बात पर ठाकुर उदय सिंह गुस्सा हो कर मस्तानगढ़ चले गए। 

श्री सतगुरु जगजीत सिंह जी नाजुक हालत में अपोलो अस्पताल (लुधियाना) में दाखिल थे उस समय श्री ठाकुर दलीप सिंह जी और बेबे दलीप कौर जी कई दिनों दर्शन करने जाते रहे, पर दर्शन नहीं होने दिए।

श्री सतगुरु जगजीत सिंह जी का 13 दिसंबर 2012 को बैकुंठ गमन हुआ। सस्कार व अंतिम अरदास के समय पुलिस का इंतज़ाम करके श्री ठाकुर दलीप सिंह जी और बेबे दलीप कौर जी को अंतिम दर्शन तक नहीं करने दिए 

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *