Select Page

पंजाब को मिलावट के जहर से बचाने के लिए संयुक्त  प्रयास की जरुरत: आहलूवालिया

पंजाब को मिलावट के जहर से बचाने के लिए संयुक्त  प्रयास की जरुरत: आहलूवालिया
होशियारपुर, ( रुपिंदर  ) दूध और दूध से बने पदार्थों में मिलावट तेजी से बढ़ती जा रही है, जिसके लिए ठोस कदम उठाने की जरु रत है। पंजाब सरकार ने मिशन तंदुरु स्त पंजाब के अंतर्गत बेहतरीन प्रयास कर मिलावटखोरों पर नकेल कसी है और यह प्रयास लगातार जारी रहना चाहिए। यह विचार एनिमल वेलफेयर बोर्ड भारत सरकार के केंद्रीय सदस्य श्री मोहन सिंह आहलूवालिया ने आज जिला प्रबंधकीय कांप्लेक्स में प्रशासनिक अधिकारियों व विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करते हुए रखे। इस दौरान अतिरिक्त  डिप्टी कमिश्रर(विकास) श्री हरबीर सिंह भी विशेष तौर पर मौजूद थे।  
बैठक को संबोधित करते हुए श्री आहलूवालिया ने कहा कि पंजाब को मिलावट के जहर से बचाने के लिए मिशन जहर मुक्त  पंजाब के नाम से पूरे पंजाब में उनका छह दिवसीय दौरा है। जिसमें वे सभी सामाजिक संगठनों, पुलिस अधिकारियों, गौशाला प्रबंधकों व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम पंजाब को मिलावट के जहर से बचाना चाहते हैं तथा ग्रामीण क्षेत्रों में घट रहे रोजगार को पुर्नजीवित करना चाहते हैं। दूध और दूध पदार्थों की मिलावट की वजह से जहां ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों को दूध की सही कीमत नहीं मिल पाती वहीं पर पशुपालकों का पशुपालन में आकर्षण कम हो रहा है। इसके लिए राज्य सरकार भी पशुपालकों, दूध उत्पादकों को समय-समय पर प्रदेश में आयोजित समारोहों पर सम्मानित करे और उन्हें अधिक से अधिक प्रोत्साहित करे।
जानकारी देते हुए श्री आहलूवालिया ने कहा कि फूड सेफ्टी आफ इंडिया के अनुसार देश में 68 प्रतिशत दूध व दूध पदार्थ जहरीला है। उन्होंने कहा कि देश में पशुओं व पशु पालकों की संख्या में गिरावट आई है, जो कि चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि पंजाब दूध के नाम से जाना जाता है, इस लिए इस प्रदेश में दूध का मिलावट रहित व पौष्टिक होना बहुत जरु री है, तभी पंजाब तंदुरु स्त और सेहतमंद बन सकता है। मिलावट को रोकने के लिए जनता भी सरकार का सहयोग करें और मिलावट करने वालों की जानकारी जिला प्रशासन को दें। उन्होंने कहा कि वे मुख्य मंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह से बातचीत करेंगे कि दूध के सैंपल लेने का अधिकार वैटनरी डाक्टर को भी मिले। उन्होंने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारें भी इसमें तभी कारगर कार्रवाई कर सकती हैं जब लोग जागरु क हों। लोगों की जागरु कता के साथ-साथ जन समर्थन भी जरु री है।  इस दौरान विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने भी श्री आहलूवालिया को इस मुद्दे पर सुझाव दिए व प्रश्न किए।
 इस उपरांत अतिरिक्त  डिप्टी कमिश्रर श्री हरबीर सिंह ने कहा कि मिलावटखोरी को लेकर पंजाब सरकार चिंतित है और इसी के चलते पंजाब सरकार ने मिशन तंदुरु स्त पंजाब के अंतर्गत प्रदेश भर में बहुत बड़ा अभियान चलाया है जिसमें सभी मुख्य विभागों को शामिल किया गया है और स्वास्थ्य से संबंधित हर पक्ष को हम देख रहे हैं। उन्होंने श्री आहलूवालिया को आश्वासन दिलाया कि मिलावटखोरी को लेकर जिले में जागरु कता संबंधी विशेष प्रयास किए जाएंगे ताकि जल्द से जल्द इस पर लगाम लगाई जा सके। इस अवसर पर डिप्टी डायरेक्टर पशुपालन विभाग डा. परमात्मा सरु प, नोडल अधिकारी डा. मनमोहन सिंह दर्दी, एस.वी.ओ श्री हरजीत सिंह, एस.वी.ओ मुकेरियां डा. सुखविंदरजीत सिंह, श्री रमन कपूर, श्री कर्मवीर बाली, श्री अश्वनी गैंद, श्री आशुतोष शर्मा, श्रीसंदीप कुमार, श्री रघुवीर सिंह बेदी के अलावा विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी भी उपस्थित थे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No announcement available or all announcement expired.