Select Page

रयात बाहरा स्कूल में डॉ. सुखमीत ने दुषित पानी से फैलने वाली बिमारियों के बारे में बच्चों को बताया ।

होशियारपुर( रुपिंदर ) रयात बाहरा इंटरनेशनल स्कूल में स्वास्थ संभाल मुहिम के दौरान सेमीनार करवाया गया जिस में मेडीकल अफसर डॉ. सुखमीत बेदी ने स्कूली बच्चों को दुषित पानी से फैलने वाली बीमारीयों के बारे जागरुक किया जिस में स्कूल के सभी बच्चों और अध्यापकों ने हिस्सा लिया । इस मौके पर डॉ. सुखमीत ने कहा कि दुषित पानी द्वारा फ़ैलने वाले कुछ जल-जनित रोगजनक सूक्ष्मजीव गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं। इनके उदाहरण हैं टाइफाइड का बुखार, हैजा और हेपेटाइटिस ए । उन्होनें बताया कि दस्त लगना यह मुख्य लक्षण है। गंदगी और संक्रमण (इंफेक्शन)- बैक्टीरिया, वायरस और परजीवी जीवाणु अदृश्य रूप से पानी को दूषित करते हैं और बीमारी का कारण बनते हैं। डॉ. सुखमीत ने कहा कि जल ही जीवन है , लेकिन अगर जल के दूषित रूप को हम प्रयोग में लाएंगे, तो ये हमारे लिए बीमारियों के कारण के साथ-साथ जीवनघातक भी हो सकता है । पानी को उबाल कर ही प्रयोग करना चाहिए, अथवा फिल्टर का प्रयोग करना चाहिए। पीने के पानी को मिट्टी के घड़े में रखें । तांबे के बर्तन में रखें, क्योकि यह अन्य बर्तनों के मुकाबले सर्वाधिक शुद्ध रहता है।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *