Select Page

सधारणता दूषित पानी पीने से होता है डायरिया : डा. भाटिया

सधारणता दूषित पानी पीने से होता है डायरिया : डा. भाटिया
गढ़शंकर (सेखों ) यदि आपको दिन में तीन बार से अधिक पतला शौच हो तो यह डायरिया के लक्षण होते हैं। यह बीमारी मुख्यत: रोटा वायरस के शरीर में प्रवेश से होती है। यह दो प्रकार का होता है – एक्यूट और क्रोनिक डायरिया। यह विचार सेंट सोल्जर डिवाइन पब्लिक स्कूल गढ़शंकर में दस्त रोग पर आयोजित सेमीनार के दौरान प्रकट करते हुए एसएमओ डा. टेक राज भाटिया ने कहा कि डायरिया साधारणता दूषित पनि पीने से होता है। इसके इलावा यह वायरल इन्फेक्शन के कारण, पेट में बैक्टीरिया के संक्रामण से, शरीर में पानी कि कमी से, आस-पास सफाई ठीक से न होने के कारण भी हो सकता है। समय पर इलाज न होने पर यह खतरनाक हो जाता है। यह ज्यादातर बच्चों में होता है और इसमें मृत्यु का सबसे बढ़ा कारण डिहाइड्रेशन होता है। पेट में तेज दर्द होना, पेट में मरोड़ होना, उल्टी आना, जल्दी-जल्दी दस्त होना, बुखार होना, कमजोरी महसूस करना, आँखें धंस जाना इसके प्रमुख लक्षण हैं। डा. भाटिया ने इसके इलाज से संबंधित बात करते हुए कहा कि डायरिया से पीडि़त रोगी को तुरंत ओ.आर.एस. का घोल पिलाना चाहिए। यदि डायरिया बैक्टीरिया के संक्रामण से होता है, तो एंटीबायोटिक लेना आवश्यक हो जाता है। इस अवसर पर स्कूल डायरेक्टर सुखदेव सिंह ने छात्रों को बीमारीयों से बचने के लिए स्कूल, घर-आंगन तथा आस-पास की साफ-सफाई के साथ-साथ खाना खाने से पहले अच्छी तरहा से हाथ धोने की आदत डालने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम के अंत में प्रिंसिपल शैली भल्ला ने डा. भाटिया का विद्यार्थियों को बहुमूल्या जानकारी देने के लिए धन्याबाद किया। कार्यक्रम के दौरान स्कूल का समूह टीचिंग तथा नान-टीचिंग स्टाफ उपस्थित रहा।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No announcement available or all announcement expired.