Select Page

60 एन.डी.ए ग्रुप भविष्य में भी करेंगा  आशाकिरण की स्पोर्ट: बिग्रेडियर उप्पल

60 एन.डी.ए ग्रुप भविष्य में भी करेंगा  आशाकिरण की स्पोर्ट: बिग्रेडियर उप्पल

जनगाथा ,होशियारपुर। आशादीप वेल्फेयर सोसायटी की तरफ से अपने नये प्रोजेक्ट आसरा का उद्घाटनी समागम करवाया गया। समागम में 60 नैशनल डिफेंस एकेडमी (एन.डी.ए) के ब्रिगेडियर आशीष उप्पल विशेष तौर पर शामिलहुए। इस दौरान ब्रिगेडियर आशीष उप्पल ने कहा कि वो आशादीप वेल्फेयर द्वारा किये कामों को देख कर बहुत प्रभावित हुए जो इन स्पैशल बच्चों को उनके पैरों पर खड़ा करने और उनमें नया आत्मविश्वास पैदा करसाधारण लोगों की तरह जीवन जीने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। उन्होंने आशादीप वेल्फेयर सोसायटी को आश्वासन दिलाया कि वो भविष्य में भी सोसायटी के हर संभव मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहेंगे। उन्होंने कहा इसप्रोजेक्ट को कामयाब करने के लिए चाहे वो मंथली बेसिस पर मदद करेंगे वो करेंगे और प्रोजेक्ट को कामयाब करेंगे। इस दौरान उन्होंने आसरा प्रोजेक्ट की नई बिल्डिंग का उद्घाटन किया। उन्होंने बताया कि इस सैट में दो बैड रूम जिनमें ए.सी की सुविधा,  बाथरूम और बच्चों के अटैंडडेंट के रहने की व्यवस्था भी की गई हैं। जो बहुत हीसराहनीय कदम हैं।

प्रोजेक्ट के चेयरमैन परमजीत सिंह सचदेवा ने बताया कि आशादीप वेल्फेयर सोसायटी की तरफ से आसरा प्रोजेक्ट शुरू किया है जो भारत का बहुत अलग प्रोजेक्ट हैं। उन्होंने बताया ये प्रोजेक्ट आशादीप वेल्फेयर सोसायटीबच्चों के परिजनों की मदद के साथ चलाएंगी। उन्होंने बताया इस प्रोजेक्ट में फाइनांस की जिम्मेंवारी बच्चों के परिजनों की होगी और आशादीप वेल्फेयर सोसायटी मैनेजमेंट करेंगी। उन्होंने बताया स्पैशल बच्चों में चारप्रकार की डिस्बेल्टी होती हैं ब्लाईंड, डैफ, फिलीक्ली चैलेंज और मैंटली चैलेंज। सचदेवा ने बताया कि

ब्लाईंड, डैफ, फिलीक्ली चैलेंज बच्चें भविष्य में पढ़ लिख कर अपने पैरों पर खड़े हो जाते है और फाईनेंशली भी मजबूत हो जाते है लेकिन मैंटली चैलेंज बच्चों के लिए पूरी जिंदगी एक अटैंडेंट की जरूरत होती हैं और उनकेपरिजनों को ये ही चिंता होती है जब तक हम जिंदा है तब तक तो बच्चें का सही ढंग से पालन पोषण हो जाएगा लेकिन उनके बाद पालन पोषण कैसे होगा। इसी परेशानी के हल के लिए आशादीप वेल्फेयर सोसायटी नेआसरा प्रोजेक्ट शुरू किया हैं। जिसमें सोसायटी बच्चें को अडाप्ट करेंगी और जब तक बच्चा दुनिया में उसकी देखभाल करेंगी। लेकिन बच्चें की फाईनेंशल स्पोर्ट उसके परिजन करेंगे।

प्रोजेक्ट के  उपचेयरमैन कर्नल गुरमीत सिंह ने इस प्रोजेक्ट के लिए दस लाख रूपये की राशि भेंट की और भविष्य में भी इस प्रोजेक्ट के लिए अपनी तरफ से हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

प्रधान मलकीत सिंह मेहरू ने बताया कि एन.डी.ए की पूरी टीम इस प्रोजेक्ट को देख कर बहुत प्रभावित हुई है और एन.डी.ए की टीम ने अब तक इस प्रोजेक्ट के लिए 10 लाख रूपये की राशि भेंट की जा चुकी हैं।  एन.डी.एकी टीम ने उन्हें आश्वासन दिलाया कि वो भविष्य में भी इस प्रोजेक्ट के लिए हर संभव मदद करेंगे।

इस अवसर पर कोषाध्यक्ष हरीश ठाकुर, हरीश ऐरी, पूर्व प्रधान मलकीत सिंह सौंध, मुस्कान सिंह, राम आसरा, हरबंस सिंह, प्रिंसीपल शैली शर्मा, बी.आर सैनी, अवतार सिंह के अलावा स्कूल स्टाफ सदस्य व बच्चें मौजूद थे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No announcement available or all announcement expired.