Select Page

नेत्रदान महादान के महायज्ञ में हर व्यक्ति को डालनी चाहिए आहुति- संजीव

नेत्रदान महादान के महायज्ञ में हर व्यक्ति को डालनी चाहिए आहुति- संजीव

जनगाथा / होशियारपुर । भारत विकास परिषद की तरफ से गांव सरहाना खुर्द में साहिबजादा अजीत सिंह, जुझार सिंह, जोरावर सिंह एवं फतेह सिंह तथा माता गुजर कौर और समस्त शहीदों की याद को समर्पित नेत्रदान जागरुकता सैमीनार समूह साध संगत सरहाला खुर्द के सहयोग से आयोजित किया गया। इस मौके पर प्रधान प्रमुख समाज सेवी संजीव कुमार ने नेत्रदान महादान पर प्रकाश डालते हुए बताया कि नेत्रदान एक ऐसा दान है जो इंसान को मरणोपरांत करना होता है। उन्होंने कहा कि किसी कारणवश अपनी आंखों की रोशनी खो चुके लोगों की जिंदगी में आपके द्वारा दान दी गई आंखों से रोशनी भरी जा सकती है और वो भी जीवन उपरांत। इसलिए नेत्रदान महादान जैसे महान यज्ञ में आहुति डालने के लिए अधिक से अधिक लोगों को पूरी जागरुकता के साथ आगे आने की आवश्यकता है ताकि अंधेरी जिंदगियों में रोशनी भरी जा सके। उन्होंने गांव सरहाला खुर्द की समूह साध संगत का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस पुण्य कार्य में उन्होंने सहयोग करके शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि दी है।
इस अवसर पर राजिंदर मोदगिल एवं वरिंदर चोपड़ा ने बताया कि नेत्रदान जागरुकता सैमीनार दौरान 25 लोगों द्वारा नेत्रदान के प्रणपत्र भरना इस बात का संकेत है कि अब लोग इस भ्रम से दूर हो रहे हैं कि मरने के बाद भी नेत्र साथ जाते हैं। उन्होंने नेत्रदान के प्रणपत्र भरने वाले सभी लोगों को इसके लिए बधाई देते हुए और लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करने का आह्वान किया। इस अवसर पर परिषद की तरफ से प्रणपत्र भरने वाले लोगों को प्रमाणपत्र देकर सम्मानित भी किया गया।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *