Select Page

जालंधर शहर के नए मेयर के लिए कांग्रेस में खींचतान शुरू

जालंधर शहर के नए मेयर के लिए कांग्रेस में खींचतान शुरू
 जनगाथा , जालंधर : निगम चुनाव में जबरदस्त वापसी करने वाली कांग्रेस के आगे अब मेयर को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। इस समय मेयर पद के दो बड़े दावेदार सामने हैं। पहले कांग्रेस के दिग्गज जगदीश राजा और दूसरे ठंडे स्वभाव वाले बलराज ठाकुर। जगदीश राजा लगातार पार्षद बनते आ रहे हैं और वहीं बलराज ठाकुर भी लगातार चौथी बार पार्षद बने हैं। दोनों की छवि भी साफ है और अपने-अपने विधायकों साथ अच्छा तालमेल भी। इस चुनाव में बलराज ठाकुर ने अकाली दल के सतिंदर सिंह को 2914 वोटों के साथ हराया है। सतिंदर सिंह को सिर्फ 539 वोटें पड़ी। वहीं राजा ने बीजेपी के रवि महाजन को 1609 वोटों से हराया। रवि महाजन को महज 718 वोटें पड़ी।
जगदीश राजा विधायक राजिंदर बेरी के करीबी हैं। बात करें राजा की तो बेरी के दोनों विधानसभा चुनावों में राजा खुलकर साथ चले थे। बात टिकट दिलवाने की हो या चुनाव में वोटें डलवाने की। राजा ने कसर नहीं छोड़ी। इसी तरह राजा ने विधायक जूनियर बावा हैनरी का भी खुलकर साथ दिया था। ऐसे में ये दोनों विधायक राजा को ही मेयर बनाने के लिए जोर लगाएंगे। हालांकि विधायक सुशील रिंकू राजा से नाराज हैं। वह उनका विरोध कर सकते हैं।
वहीं बलराज ठाकुर कैंट से विधायक परगट सिंह के करीबी हैं। परगट के चुनाव में बलराज ठाकुर ने पूरा जोर लगाया था और परगट को अपने वार्ड से सबसे ज्यादा वोटें डलवाई थी। परगट भी ठाकुर के इस प्यार को भूले नहीं है। ऐसे में परगट ठाकुर को मेयर लगाने के लिए पूरा जोर लगाएंगे। परगट केबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के चहेते हैं। अगर मेयर बनाने में सिद्धू खेमा बाजी मारता है तो बलराज ठाकुर का मेयर बनना तय है।
फिलहाल अगर जेंट्स को मेयर बनाते हैं तो इन दोनों के अलावा कोई मजबूत उम्मीदवार नजर नहीं आ रहा है। अगर किसी लेडीस को मेयर बनाया जाता तो विधायक राजिंदर बेरी की पत्नी उमा बेरी और विधायक सुशील रिंकू की पत्नी सुनीता रिंकू का नाम आ सकता है। कहा जा रहा है कि एक हफ्ते के भीतर जालंधर के मेयर का नाम फाइनल हो जाएगा। कैप्टन अमरिंदर सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू, सुनील जाखड़ व अन्य नेता इस बारे हाईकमान से मीटिंग करके ही मेयर का नाम फाइनल करेंगे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No announcement available or all announcement expired.