Select Page

शैंटी और कालिया के जोर ने ओबराय को किया कमजोर,टिकट कटी

शैंटी और कालिया के जोर ने ओबराय को किया कमजोर,टिकट कटी

जनगाथा टाइम्स, जालंधर /सियासी बिसात पर जज्बातों की बात भी निवर्तमान डिप्टी मेयर अरविन्दर कौर ओबराय के काम न आई। ओबराय के खिलाफ महीनों पहले यूथ अकाली नेता राज़वीर सिंह शैन्टि ने पार्टी में जो बीज बोया था उसकी फसल आज विट्टी ने काट ली। पार्टी ने ओबराय को वार्ड नम्बर 51 से टिकट देने के एक दिन बाद ओबराय की टिकट काट दी।

– देने के बाद अकाली दल ने वापस ले ली ओबराय की टिकट
दरअसल, गत विधानसभा चुनावों के दौरान जब ओबराय दम्पति आम आदमी पार्टी में शामिल हो गये थे तो शैंटी ने ओबराय के वार्ड से चुनाव लड़ने के लिये सियासी ज़मीन तैयार करनी शुरू कर दी थी। सुखबीर बादल से मुलाकात कर उन्होंने अपना टिकट भी लगभग पक्का कर लिया था। इसके बाद वह चुनाव लड़ने की तैयारी में जुट गये थे। चट्ठा के जेसी रिसॉर्ट में प्रदेश स्तरीय सम्मेलन का आयोजन भी उन्ही के सौजन्य से आयोजित किया गया था। लोकल लीडरशिप भी शैंटी के पूरे सपोर्ट में थी। सब कुछ तय था मगर वार्डबंदी ने शैंटी का सारा खेल बिगाड़ दिया। जिस वार्ड से शैंटी चुनाव लड़ना चाहते थे वह वार्ड महिला आरक्षित हो गया लेकिन पुराने खयालात वाला शैटी का परिवार घर की बहु को सियासी लड़ाई में उतारने को तैयार नहीं हुआ। नतीजतन शैंटी के अरमानों पर पानी फ़िर गया। इसी बीच ओबराय की अकाली दल में वापसी हुई और उन्हें टिकट की कवायद शुरू हुई तो मनोरँजन कालिया का गुस्सा फूटने लगा। ओबराय के खिलाफ कालिया ने विट्टी को मोहरा बनाया। बैठके हुईं, दावेदारी पेश की गई लेकिन ओबराय बाजी मार ले गये। फजीहत हुई तो कालिया अड़ गये। सूत्र बताते हैं कि कालिया ने ओबराय का खुलकर विरोध करने की धमकी दी तो पार्टी ने ओबराय का पत्ता साफ करना ही बेहतर समझा। अब गेंद विट्टी के पाले में आ चुकी है। अब अगर ओबराय आजाद लड़ते हैं तो भी फजीहत होती है और नहीं लड़ते हैं तो राजनीतिक भविष्य खतरे में पड़ता है। बहरहाल, शैंटी के लगाये गये पेड़ के आम खाने का मौका विट्टी को मिला है। रास्ता बहुत मुश्किल नहीं है लेकिन विट्टी इस रास्ते पर चलकर जीत की मंजिल तक पहुचेगें या नहीं यह तो आने वाला वक्त ही बतायेगा लेकिन ओबराय क्या रणनीति अपनायेंगे यह देखना दिलचस्प होगा।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *