Select Page

विश्व डाक दिवस पर सेंट सोल्जर के छात्रों ने की पोस्ट आफिस की सैर

विश्व डाक दिवस पर सेंट सोल्जर के छात्रों ने की पोस्ट आफिस की सैर
जनगाथा /  माहिलपुर/  सेंट सोल्जर डिवाइन पब्लिक स्कूल माहिलपुर में आज विश्व डाक दिवस मनाया गया। प्रिंसिपल सुखजिंदर कौर के निर्देशन ओर अध्यापिका अमनदीप कौर के नेतृत्व में स्कूल छात्रों ने डाकघर माहिलपुर का शैक्षणिक टूर लगाया। इस दौरान डाकघर के कर्मचारियों ने छात्रों को डाकघर में पूरा दिन होने वाले कार्य जैसे बाहर से आने वाली चिट्ठियों, रजिस्ट्रीयों, पार्सल, मनीआर्डर को उनके सही पते पर पहुंचाने के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर प्रिंसिपल सुखजिंदर कौर ने छात्रों को विश्व डाक दिवस के महत्व के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि बेशक आज इंटरनेट, ईमेल, मोबाईल, एसएमएस और कुरियर के जमाने में पोस्ट ऑफिस का चलन बहुत कम हो गया है फिर भी बर्थडे कार्ड, राखियों से लेकर बहुत से जरूरी कागजात हम तक पहुंचाने का काम भारतीय डाक सेवा विभाग ही करता है। भारतीय डाक सेवा ने 1 अक्टूबर 2004 को ही अपने सफर के 150 वर्ष पूरे कर लिए। अपने देश में 1766 में लार्ड क्लाइव ने पहली बार डाक व्यवस्था स्थापित की थी। फिर 1774 में वॉरेन हेस्टिंग्स ने कलकत्ता में प्रथम डाकघर स्थापित किया था। इसके साथ ही चि_ियों को पोस्ट करते समय उस पर लगाए जाने वाले स्टैंप्स की शुरुआत अपने देश में 1852 में हुई थी।
सब पोस्ट मास्टर मनोज कुमार ने बताया कि भारतीय डाक विभाग रजिस्ट्री पोस्ट, स्पीड पोस्ट, बिजनेस पोस्ट और ग्रीटिंग पोस्ट से चि_ियों को भेजने के इलावा आजकल तो डाकघर भी एक बैंक की तरह काम करता है। यहां आप अपने पैसे जमा भी करवा सकते हैैं। भारत की डाक सेवा में एक खास बात यह है कि यहां एक खास तरह का पिन कोड होता है। यह पिन कोड 6 नंबरों का होता है। पिन कोड पोस्ट ऑफिस का नंबर होता है। इसकी मदद से ही हम तक चि_ियां पहुंच पाती हैं। यह हम सबके लिए यह गर्व करने वाली बात है कि भारत की डाक सेवा दुनिया की सबसे बड़ी डाक सेवा है। साथ ही दुनिया में सबसे ऊंचाई पर बना पोस्ट ऑफिस भी भारत में ही है जो हिमाचल प्रदेश के हिक्किम में स्थित है। इस शैक्षणिक टूर के दौरान अध्यापक बलजिंदर कुमार, रेनू शर्मा, आरती, बलवीर कौर व तरसेम सिंह के इलावा एम.टी.एस. जगदीप सिंह, पी.ए. बलवीर सिंह, संतोख सिंह, मेहर चंद, नीरज कुमार (सभी पोस्टमैन) भी उपस्थित थे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *