Select Page

सरेंडर या गिरफ्तारीः राम रहीम की परी हनीप्रीत के लिए हरियाणा पुलिस ने की ये तैयारी

सरेंडर या गिरफ्तारीः राम रहीम की परी हनीप्रीत के लिए हरियाणा पुलिस ने की ये तैयारी

जनगाथा/ चंडीगढ़ / पंचकुला के सेक्टर-1 में स्थित कोर्ट कांप्लेक्स की ओर जाने वाली सभी रास्ते मंगलवार को सील कर दिये गये हैं। देशद्रोह की गतिविधियों की आरोपी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की करीबी हनीप्रीत के अदालत में सरेंडर करनी की सूचना के बाद सुरक्षा की पुख्ता तैयारियां की गई हैं।

दिल्ली हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी खारिज होने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि हनीप्रीत उर्फ प्रियंका सीबीआई अदालत में सरेंडर करेंगी या फिर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल करेंगी। हरियाणा पुलिस को सोमवार रात यह सूचना मिली थी कि हनीप्रीत दिल्ली में है और वह मंगलवार को पंचकुला की सीबीआई अदालत में सरेंडर करेंगी। मंगलवार सुबह डीजीपी ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की बैठक बुलाकर हनीप्रीत को अदालत में सरेंडर से पहले ही गिरफ्तार करने के निर्देश दिये हैं। इसके लिए व्यापक इंतजाम पुलिस ने सुबह ही कर लिये।  पंचकुला के पुलिस आयुक्त एएस चावला ने कहा कि हनीप्रीत के अदालत में सरेंडर करने की तैयारी के इनपुट मिले हैं। इससे कोर्ट कांप्लेक्स की तरफ जाने वाले सभी रास्तों पर पुलिस तैनात की गई है। सभी तरह के वाहनों की जांच की जा रही है जिससे कोई अप्रिय घटना न हो सके। हनीप्रीत वांटेड है और उसकी गिरफ्तारी के लिए टीमें सतर्क हैं।

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सजा के बाद से फरार चल रही उनकी करीबी और बेटी हनीप्रीत आमने आई गई हैं। सात राज्यों की पुलिस टीमों को चकमा दे रहीं हनीप्रीत मंगलवार को कुछ न्यूज चैनल्स पर नजर आईं। उन्होंने खुद को बेकसूर बताया है। हनीप्रीत ने अपने पिता राम रहीम को पूरी तरह से निर्दोष बताया और साथ ही उनके साथ अपनी करीबियों पर भी काफी कुछ बातें कहीं।

लेंगी कानूनी सलाह 

हनीप्रीत के मुताबिक अब वह पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट का रुख करेंगी और कानूनी सलाह लेंगी। गौरतलब है कि हनीप्रीत पर राजद्रोह का केस दर्ज हुआ है। उन पर पंचकूला में हिंसा भड़काने के आरोप में सेक्टर-5 थाने में केस दर्ज है। हनीप्रीत पर आरोप है कि उसने साध्वियों से रेप के दोषी राम रहीम को पुलिस कस्टडी से छुड़ाने की साजिश रची थी। गायब रहने के सवाल पर हनीप्रीत ने कहा कि उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था।

उन्होंने बताया कि वह हरियाणा से किसी तरह दिल्ली गई। अब वह हरियाणा-पंजाब कोर्ट में जाऊंगी।  सरेंडर के सवाल पर हनीप्रीत ने कहा कि वह कानूनी सलाह लेंगी। हनीप्रीत की मानें तो वह कभी भी नेपाल नहीं गई थीं और देश में ही रह रही थीं। उन्होंने बताया कि वह इतनी डरी हुई थी कि अपनी मानसिक स्थिति बयां नहीं कर सकती हूं। उन्हें तो किसी तरह की प्रक्रिया भी

दिल्ली हाई कोर्ट से लगा था झटका
लुकआउट नोटिस जारी होने के बाद इधर-उधर भटक रही हनीप्रीत ने दिल्ली हाई कोर्ट में ट्रांजिट अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी, लेकिन हाईकोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दी थी। इतना ही नहीं  नसीहत के तौर पर कोर्ट ने उसे वॉर्निंग भी दिया है। दिल्ली हाईकोर्ट की नसीहत के बाद से आज छुट्टियों के बाद कोर्ट खुला है। उम्मीद की जा रही है कि 38 दिन से फरार हनीप्रीत आज पंचकूला कोर्ट या फिर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत की गुहार लगा सकती है।
कोर्ट ने कहा था कि हनीप्रीत को अग्रिम जमानत नहीं दी जा सकती क्योंकि यह मामला दिल्ली हाईकोर्ट के जूरिडिक्शन में नहीं आता। कोर्ट ने इस आधार पर आदेश जारी किया कि हनीप्रीत गिरफ्तारी से बचती रही और इसलिए किसी विशेष राहत की हकदार नहीं है।

कोर्ट ने कहा कि हनीप्रीत का पता दिल्ली का नहीं है। ऐसे में यह दिल्ली का मामला बनता ही नहीं। आप यहां बस वक्त खराब कर रहे हैं। आप इस तरह की याचिका दायर करके और ज्यादा वक्त चाहते हैं ताकि गिरफ्तारी से बचा जा सके। आपको दिल्ली हाईकोर्ट की बजाय पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर करनी चाहिए। हनीप्रीति के वकील ने कहा कि हम कोर्ट के फैसले को पूरी तरह पढ़ेंगे और उसके बाद ही अगला कदम उठाएंगे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *