Select Page

आत्महत्या नहीं है समस्या का हल: डा. अजय बग्गा

आत्महत्या नहीं है समस्या का हल: डा. अजय बग्गा

जनगाथा , होशियारपुर । वायापार में घाटा, कर्ज से परेशान किसान तथा परीक्षा में परिणाम अनुकूल न आने के चलते कई लोग आत्महत्या को गले लगा लेते हैं, जिसे किसी भी सूरत में तर्कसंगत नहीं कहा जा सता, क्योंकि जीवन का नाम संघर्ष है और हमें पूरे आत्मविश्वास के साथ हर समस्या का सामना करना चाहिए। हाल ही में फतेहगढ़ साहिब में किसानों द्वारा कर्ज से परेशानी के चलते आत्महत्या करना तथा लुधियाना में व्यापारी द्वारा व्यापार में घाटा पडऩे पर परिवार सहित आत्महत्या करना तथा छात्रा-छात्राओं द्वारा परीक्षा में अंक कम आना व असफल होने पर आत्महत्या करना अत्यंत चिंता का विषय है। सामाजिक जागरुकता हेतु कार्यरत संस्था ‘सवेराÓ के संयोजक डा. अजय बग्गा ने उक्त बात कहते हुए यहां जारी एक बयान में कहा कि आत्महत्या किसी भी समस्या का हल नहीं है। वर्तमान समय में परेशानियों भरे जीवन पर दशकों पहले लिखे गए गीत के बोल ‘इस दुनिया में आए हैं तो जीना ही पड़ेगा, जीवन अगर जहर है तो पीना ही पड़ेगाÓ पूरी तरह से चरितार्थ होता है और परेशानियों से हार मान बैठे व्यक्ति को इसका अनुसरन करना चाहिए। डा. बग्गा ने कहा कि आत्महत्या करने वाला श स अपने प्रियजनों व पारिवारिक सदस्यों की परेशानियों को और बढ़ाता है। कानूनी, धार्मिक और सामाजिक दृष्टि से आत्महत्या को उचित नहीं ठहराया जा सकता। मीडिया द्वारा आत्महत्या से संबंधित समाचारों को प्रमुखता से स्थान देना और सरकारों द्वारा आत्महत्या करने वालों के परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान करने के समाचारों से इस प्रकार की घटनाओं पर अंकुश लगाने में रुकावट आती है। सरकार के द्वारा ‘राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रमÓ चलाया जा रहा है। धार्मिक व सामाजिक संगठनों को चाहिए कि वो मानसिक परेशानी से जूझ रहे लोगों का उपचार करवाने हेतु भी आगे आएं। डा. बग्गा ने बताया कि सरकार द्वारा मैंटल हैल्थ केयर एक्ट-2017 के अंतर्गत प्रावधान है कि मानसिक दृष्टि से बीमार व्यक्तियों को मैंटर हैल्थ केयर प्रदान की जा रही है।
उन्होंने कहा कि जीवन एक संघर्ष है और सुख व दुख जीवन के अभिन्न अंग हैं। जीवन में समस्याओं से भाग कर आत्महत्या को गले लगाना समस्याओं का हल नहीं हैं और न ही इस उचित ठहराया जा सकता है। इसलिए समस्या पडऩे पर आत्मविश्वास को बढ़ाएं तथा ऐसे लोगों के बीच रहने का प्रयास करें जो आपका मनोबल बढ़ाएं। जीवन में ऐसी कोई समस्या नहीं है जिसका कोई हल नहीं है। आत्मविश्वासी बनने से आप जहां खुद की जीवन बचा पाएंगे वहीं अपनी परिवार व प्रियजनों को भी खुशियां दे सकेंगे।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No announcement available or all announcement expired.