संभावित बाढ़ से निपटने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से तैयार: अपनीत रियात

    0
    60

    होशियारपुर, जनगाथा टाइम्स: (सिमरन)

    डिप्टी कमिश्नर अपनीत रियात ने कहा कि बरसातों के कारण संभावित बाढ़ से निपटने के लिए जिला प्रशासन की ओर से मुकम्मल तैयारियां कर ली गई हैं और अलग-अलग विभागों के अधिकारियों को उनकी जिम्मेदारियां सौंपी जा चुकी हैं। वे आज जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स में संभावित बाढ़ से निपटने के लिए अलग-अलग विभागों के अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उनके साथ अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर(सामान्य) अमित कुमार पांचाल भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि जून से सितंबर तक भारी बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बने रहने की संभावना होती हैं, इस लिए इस निपटने के लिए अग्रिम प्रबंध बहुत जरुरी हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे हालातों का सामना करने के लिए एकजुटता व तालमेल के साथ काम करने की जरुरत हैं।

    डिप्टी कमिश्नर ने समूह एस.डी.एम्ज को सब-डिविजन स्तर पर सैक्टर प्लान बनाने के साथ-साथ पुलिस के तालमेल से सैक्टर आफिसर नियुक्त करने के लिए कहा। इसके अलावा उन्होंने ट्रेंड डाइवर व स्वीमर को भी पहले चिन्हित करने के निर्देश दिए ताकि जरुरत पड़ने पर इनका सहयोग लिया जा सकें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि संभावित बाढ़ वाले इलाके में लोगों को साफ सुथरा पानी मुहैया करवाने के लिए अग्रिम प्रबंध कर लिए जाएं। उन्होंने अधिकारी को सौंपी गई ड्यूटी को तनदेही व जिम्मेदारी से निभाने के लिए कहा, ताकि बाढ़ जैसे हालात से निपटने के लिए कोई मुश्किल न आ सके। उन्होंने कहा कि बाढ़ के सीजन के दौरान जून से सितंबर तक किसी भी अधिकारी का मोबाइल फोन बंद नहीं होना चाहिए, बल्कि 24 घंटे के लिए चालू रहना चाहिए। इसके अलावा उनकी बिना आज्ञा के कोई भी अधिकारी बाढ़ के इस सीजन में उनकी बिना मंजूरी के छुट्टी नहीं करेगा और न ही अपना स्टेशन छोड़ेगा। इस दौरान उन्होंने दसूहा व मुकेरियां सब-डिविजन के अंतर्गत प्रभावित होने वाले गांवों के लिए एस.डी.एम. दसूहा व एस.डी.एम. मुकेरियां को संयुक्त तौर पर काम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बाढ़ के सीजन के दौरान यह भी यकीनी बनाया जाए कि चोअ के नजदीक बच्चे नहाने से गुरेज करें। उन्होंने कहा कि बाढ़ के सीजन के दौरान बच्चों का चोअ में नहाना बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को इस संबंधी अग्रणी प्रबंध करने के निर्देश दिए।

    डिप्टी कमिश्नर अपनीत रियात ने एस.डी.एम्ज को निर्देश दिए कि बरसातों मेें शहरी व ग्रामीण इलाकों के जिन स्थानों पर ज्यादा पानी आता हैं वहां पर उसकी निकासी के भी उचित प्रबंध पहले से कर लिए जाएं, जिसमें नगर निगम, परिषद व ग्रामीण विकास व पंचायत विभाग को पूरा सहयोग करने के निर्देश दिए। उन्होंने एस.डी.एम्ज व ड्रेनेज विभाग के अधिकारियों को कहा कि वे अपने-अपने अंतर्गत आते प्रभावित गांवों का चुनाव करने के साथ-साथ दरियाओं, धुस्सी बांध के किनारों को दुरु स्त करवाने के अलावा उचित स्थानों को जल्दी रिपेयर करवाने के लिए प्रयास करें। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर व सब-डिविजन स्तर पर फ्लड कंट्रोल रु म भी स्थापित किए जाने हैं। उन्होंने कहा कि फ्लड कंट्रोल रुम 15 जून से 30 सितंबर तक चलेगा, इस लिए इसके लिए तैयारियां शुरु कर दी जाए। उन्होंने बताया कि जिला स्तर पर फ्लड कंट्रोल रुम जिला प्रबंधकीय कांप्लेक्स में स्थापित किया जाएगा, जिसका फोन नंबर 01882-220412 हैं।

    अपनीत रियात ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को हिदायत करते हुए कहा कि संभावित बाढ़ के दौरान जहां डाक्टर की ड्यूटी लगाई जाए, वहीं दवाईयों का भी प्रबंध यकीनी बनाया जाए। उन्होंने कहा कि बरसातों के दौरान दूषित पानी से होने वाली बीमारियों की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग खास तौर पर चौकन्ना रहे। इसके अलावा उन्होंने संबंधित विभाग को नौकाओं, लाइफ जैकेट व बाढ़ की स्थिति संबंधी उपयोग की जाने वाली मशीनरी के अग्रिम तौर पर जांच करने की भी हिदायत की। उन्होंने बाढ़ जैसे हालात के दौरान पशु पालन विभाग को पशुओं के लिए भी उचित प्रबंध करने के लिए कहा। उन्होंने एस.डी.एम्ज को समाज सेवी व सामाजिक संस्थाओं का चुनाव करने के अलावा गांव में मेहनती व्यक्तियों की पहचान करने के लिए कहा, ताकि ऐसे हालात का सामना करने के लिए इनका सहयोग लिया जा सकें।

    इस मौके पर एस.डी.एम. होशियारपुर अमित महाजन, एस.डी.एम. मुकेरियां अशोक कुमार, एस.डी.एम. दसूहा रणदीप सिंह हीर, जिला राजस्व अधिकारी अमनपाल सिंह, सिविल सर्जन डा. रणजीत सिंह के अलावा अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here