वर्ष 2017 में सड़क हादसों में हुई 251 की मौत

    0
    50

     जनगाथा / होशियारपुर /  ट्रैफिक नियमों का पूरी तरह से पालन न करने के चलते जिले में सड़क दुर्घटनाओं में हर रोज वृद्धि होती जा रही है। वर्ष 2017 में जिले में हुई 316 सड़क दुर्घटनाओं में 251 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था जबकि इन दुर्घटनाओं में 260 लोग चोटिल हुए। जनवरी 2017 में विभिन्न दुर्घटनाओं के 25 मामलों में 19 लोगों की मौत हुई व 12 व्यक्ति घायल हुए। फरवरी में 35 दुर्घटनाओं में 23 लोगों की मौत व 21 लोग घायल हुए। मार्च 2017 में हुई 28 दुर्घटनाओं में 22 लोगों की मृत्यु व 17 लोग घायल हुए। अप्रैल में 31 दुर्घटनाओं में 24 लोगों की मृत्यु व 71 लोग घायल हुए। मई में 31 मामलों में 30 लोगों की मौत व 41 लोग जख्मी हुए।

    जून 2017 में 20 दुर्घटनाओं में 12 लोगों की मौत व 18 लोग घायल हुए। जुलाई में 24 दुर्घटनाओं में 17 लोगों की मृत्यु व 10 लोग घायल हुए। अगस्त माह में 18 दुर्घटनाओं में 13 लोगों की मौत व 9 लोग घायल हुए। सितम्बर महीने में 13 सड़क दुर्घटनाओं में 12 लोग मृत्यु का शिकार बने व 13 घायल हुए। अक्तूबर माह में 31 सड़क दुर्घटनाओं में 26 लोगों की मौत व 16 अन्य चोटिल हुए। नवम्बर माह दौरान 30 सड़क दुर्घटनाओं में 22 लोगों की मौत व 19 लोग घायल हुए। दिसम्बर माह दौरान 30 मामलों में 31 लोगों की मौत व 13 घायल हुए थे।

    क्या कहते हैं एस.एस.पी. 
    जिले में सड़क दुर्घटनाओं में हुई वृद्धि के संबंध में टिप्पणी करते हुए एस.एस.पी. जे. इलनचेलियन ने कहा कि जिला पुलिस की तरफ से सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम हेतु यातायात नियमों की पालना पूरी सख्ती से करवाई जाती है। इसके अलावा लोगों को ट्रैफिक नियमों की पालना संबंधी जानकारी देने के लिए जिला पुलिस के ट्रैफिक एजुकेशन सैल व कम्युनिटी पुलिसिंग रिसोर्स सैंटर (सी.आर.पी.सी.) सांझ केंद्र की तरफ से जिले के स्कूलों/कालेजों व अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर यातायात नियमों की जानकारी देने संबंधी चेतना सैमीनार आयोजित किए जाते हैं।

    269 मामले हुए दर्ज
    सड़क दुर्घटनाओं के संबंध में भारतीय दंडावली की विभिन्न धाराओं अधीन पुलिस ने जिले के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में 269 आपराधिक मामले दर्ज किए हैं। 47 सड़क दुर्घटनाओं के संबंध में सी.आर.पी.सी. की धारा 174 अधीन कार्रवाई करके मामले निपटाए गए।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here