रिटायरमेंट के बाद अपना ही हक़ न मिलने पर , चौंकीदार ने की आत्महत्या

    0
    60

    जनगाथा / टांडा उड़मुड़ |  गांव बाबक में सहकारी सभा से सेवामुक्ति के बाद बकाया ना मिलने से परेशान रिटायर्ड चौंकीदार ने  फंदा लगा कर ख़ुदकुशी करने का समाचार है। मृतक की पहचान सुच्चा सिंह  पुत्र उत्तम सिंह निकासी बाबक  के रूप में हुई है । मृतक गत रात से घर से लापता था और आज सुबह करीब दस बजे उसकी लाश गांव के बाहर पेड़ पर लटकी हुई मिली । मृतक गांव घोडावाहा की सहकारी सभा में चौकीदार के तौर पर काम करता था और 2015 में वो रिटायर हुआ था |  मौके पर मृतक का सुसाइड नोट मिला है जिस में उसने लिखा है कि वो 30  अप्रैल 2015 को रिटायर हुआ था और रिटायरमेंट के बाद उसके रिटायरमेंट बेनिफिट्स के 436702 रुपए बनते थे। लेकिन उसके हर कोशिश करने के बाद भी उसकी रिटायरमेंट के बाद उसको यह पैसा नहीं मिला| जब जब भी उसने बैंक में जा कर अदायगी के बारे में बात की उसे लारे के बिना कुछ नहीं मिला जिस के चलते वो परेशान रहता था और इसी परेशानी के चलते उसने ख़ुदकुशी कर ली | सुसाइड नोट में सुच्चा सिंह ने कुछ लोगो  के नाम लिख मौत के लिए जिम्मेवार ठहराया है | टांडा पुलिस सुसाइड नोट की प्रमाणिकता के साथ साथ मामले की जाँच में जुटी है फिलहाल अभी तक कोई मामला दर्ज नहीं हुआ था |

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here