मोदी की कैप्टन पर टिप्पणी को लेकर कांग्रेस में भी चर्चा छिड़ी

    0
    54

    जनगाथा /  चंडीगढ़  / प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पिछले दिनों त्रिपुरा के चुनाव परिणामों के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह को स्वतंत्र फौजी बताने व उन पर हाईकमान की न सुनने की टिप्पणी के बाद विपक्षी दलों में ही नहीं बल्कि कांग्रेस में भी इसे लेकर चर्चा छिड़ चुकी है। जहां नेता विपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने इस पर कहा कि हम तो पहले ही इस बात को जानते हैं और इस समय कैप्टन भाजपा का एजैंडा लेकर ही चल रहे हैं।

    वहीं भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सांपला ने भी मोदी के विचार को सही बताते हुए कहा था कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं कहा और हाईकमान से संबंध ठीक न होने के कारण कैप्टन मंत्रिमंडल का विस्तार राहुल से मुलाकात का समय न मिलने के कारण बार-बार टाल रहे हैं।उधर अब कांग्रेस में कैप्टन विरोधी वरिष्ठ नेताओं को भी हाईकमान को इस संबंधी बात कहने का मौका मिल गया है। उल्लेखनीय है कि 2 पूर्व प्रदेशाध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य शमशेर सिंह दूलो व प्रताप सिंह बाजवा तो कई बार खुले तौर पर कैप्टन सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते रहते हैं। सूत्रों की मानें तो अब मोदी की टिप्पणी के बाद कैप्टन विरोधी कई कांग्रेसी नेता सक्रिय हो गए हैं और वे राहुल गांधी को मिलने की तैयारी में भी बताए जाते हैं।

    मानना है कि कैप्टन के पार्टी अध्यक्ष बनने से पहले भी उनका भाजपा से संपर्क था और पार्टी टूटने के भय के कारण ही राहुल गांधी को न चाहते हुए भी उन्हें बाजवा को हटाकर अध्यक्ष बनाना पड़ा था। यह भी उल्लेखनीय है कि पार्टी की प्रदेश प्रभारी व ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी की महासचिव आशा कुमारी गत दिवस शिमला जाते हुए चंडीगढ़ पहुंचीं और उन्होंने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह से चुपचाप ही लंबी बातचीत की। बेशक इसमें पार्टी संगठन व 16 मार्च से नई दिल्ली में होने वाले ऑल इंडिया कांग्रेस अधिवेशन की तैयारी को लेकर ही चर्चा की है परंतु सुनने में आया है कि उन्होंने मोदी द्वारा की गई टिप्पणी के बाद की स्थितियों के संदर्भ में चर्चा की है। प्रभारी होने के कारण वह इस संबंधी पार्टी अध्यक्ष को भी जानकारी दे सकती हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here