जिले के 96 गांवों में नहीं बीजा जाता धान,110 गांवों में ही पराली जलाने के मामले सामने आए : डिप्टी कमिश्नर

    0
    134

    होशियारपुर (जनगाथा टाइम्स ) माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय अनुसार पंजाब सरकार की ओर से उन छोटे व सीमांत किसानों को सहायता राशी प्रदान की जानी है, जिन्होंने धान की पराली को आग न लगाकर इसकी संभाल की है। इस सहायता राशी के लिए पहले पढ़ाव के अंतर्गत जिले के हर ब्लाक में 2 गांवों का चुनाव किया जा रहा है, उसके बाद दूसरे गांवों से प्रार्थना पत्रों की मांग की जाएगी।
    इस संबंधी जानकारी देते हुए डिप्टी कमिश्नर श्रीमती ईशा कालिया ने बताया कि पराली की संभाल करने वाले किसानों को 100 रु पए प्रति क्वि ंटल के हिसाब से सहायता राशी प्रदान की जा रही है, जिसके लिए कृषि विभाग की ओर से पहले पढ़ाव में हर ब्लाक में 2 गांवों का चुनाव कर प्रार्थना पत्रों की मांग की गई है। उन्होंने बताया कि दूसरे पढ़ाव में 10 ब्लाकों के सभी गांवों को कवर किया जाएगा। उन्होंने बताया कि गांव के सरपंच, पटवारी व कलस्टर कोआर्डिनेटर की ओर से वैरीफाई किया जाएगा। इसके बाद इन प्रार्थना पत्रों को सहकारी सभाओं के सचिव की ओर से इस उद्देश्य के लिए बनाई गई वैबसाइट पर अपलोड कर संबंधित एस.डी.एम. को भेज दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि एस.डी.एम. की ओर से पंजाब रिमोर्ट सैंसिंग सैंटर लुधियाना की ओर से आग लगने की रिपोर्टों के अनुसार वैरीफाई करने के बाद डिप्टी कमिश्नर कार्यालय भेज दिया जाएगा व इन प्रार्थना पत्रों को कृषि व किसान कल्याण विभाग पंजाब को जरु री सहायता देने के लिए भेज दिया जाएगा
    श्रीमती ईशा कालिया ने बताया कि जिले में 70 हजार हैक्टेयर रकबे में धान व 5 हजार रकबे में बासमती बीजी जाती है। उन्होंने बताया कि जिले के 1449 गांवों में से 96 गांवों में धान, बास्मती की काश्त नहीं की जाती। उन्होंने किसानों को फसली चक्र में से निकल कर वैकल्पिक कृषि करने पर जोर देते हुए कहा कि कृषि के साथ-साथ सहायक धंधे भी अपनाए जाएं, ताकि किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत हो सके।
    पराली जलाने के मामलों संबंधी जानकारी देते हुए डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि जिले में पराली जलाने के 64 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 1 लाख 90 हजार रु पए जुर्माना किया गया है। उन्होंने कहा कि पंजाब रिमोट सैंसिंग सैंटर की ओर से भेजी गई रिपोर्ट के अनुसार जिले के मात्र 110 गांवों में ही पराली को आग लगाने के मामले सामने आए हैं। उन्होंने किसानों को धान की पराली, अवशेष को आग न लगा कर इसका खेतों में ही प्रबंधन करने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि जिले में 76 फार्म मशीनरी बैंक स्थापित किए गए हैं, जिनमें से 254 आधुनिक खेती मशीने, उपकरण उपलब्ध हैं। इसके अलावा व्यक्तिगत तौर पर 46 खेती उपकरण मुहैया करवाए गए हैं। उन्होंने बताया कि कृषि विभाग की ओर से सहकारी सभाओं को भी कृषि मशीने, उपकरण मुहैया करवाए जा रहे हैं, ताकि किसान पराली को आग लगाने के स्थान पर इसका खेत में ही प्रबंधन कर सकें। उन्होंने कहा कि पराली के प्रबंधन के लिए किसान आधुनिक खेती मशीने, उपकरण फार्म मशीनरी बैंकों से किराए पर ले सकते हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here