जिले की मंडियों में धान की खरीद बनाई जाए सुचारु, प्रबंधों में न रहे कोई कमी: अपनीत रियात

    0
    75

    होशियारपुर, (रविंदर) :

    डिप्टी कमिश्नर अपनीत रियात ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि धान की खरीद के दौरान किसानों को किसी तरह की कोई दिक्कत न आए, इसके अलावा किसानों की सुविधा के लिए मंडियों में प्रबंधों में कोई कमी नहीं रहनी चाहिए। वे आज जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स में जिले के समूह एस.डी.एम्ज, खरीद एजेंसियों के अधिकारियों व अन्य प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

    डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि मंडियों में धान की खरीद में तेजी लाई जाए और यह यकीनी बनाया जाए कि खरीद के साथ फसल की लिफ्टिंग व पेमेंट में किसी तरह की देरी न हो। उन्होंने समूह एस.डी.एम्ज, जिला मंडी अधिकारी व मंडी स्तर पर लगाए गए कलस्टर अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे मंडियों में रोजाना चैकिंग करें और खरीद प्रबंधों की समीक्षा कर कमियों को फौरन दूर करें। इस दौरान उन्होंने जी.ओ.जीज को भी मंडियों का निरीक्षण करने के लिए कहा और सामने आने वाले कमियों को सीधे तौर पर उनके ध्यान में लाने के लिए निर्देश दिए। उन्होंने खरीद एजेंसियों को हिदायत करते हुए कहा कि धान की खरीद के दौरान ढुलमुल रवैया न अपनाया जाए, बल्कि समय पर खरीद यकीनी बनाई जाए। उन्होंने कहा कि किसानों को मंडियों में किसी तरह की कोई समस्या नहीं आने दी जाएगी व मंडियों में किसानों के धान का एक-एक दाना उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस वर्ष मंडियों में 4.48 लाख मीट्रिक टन धान की आमद आने की उम्मीद हैं। सरकार की ओर से धान की खरीद एम.एस.पी. 1960 रु पए प्रति क्विंटल पर की जाएगी। उन्होंने जहां मंडियों के गेट पर धान की नमी को चैक कर ही मंडियों में धान भेजने के निर्देश दिए वहीं किसानों को अपील करते हुए कहा कि वे धान की फसल को सूखा कर ही मंडी में लेकर आएं, ताकि उनको किसी भी तरह की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से धान की नमी 17 प्रतिशत निर्धारित की गई हैं।डिप्टी कमिश्नर अपनीत रियात ने कहा कि मंडियों में बुनियादी सुविधाओं की कमी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि पीने वाले पानी से लेकर सफाई आदि प्रबंध सुचारु तरीके से किए जाएं, इसके अलावा बारिश को ध्यान में रखते हुए तिरपालों आदि की व्यवस्था अग्रिम तौर पर सुनिश्चित बनाई जाए। उन्होंने बताया कि जिला पुलिस की ओर से होशियारपुर जिले की अन्य राज्यों की सीमाओं पर 17 अंतर्राज्यीय नाके लगाए गए हैं, जहां पर शिफ्टों के हिसाब से पुलिस 24 घंटे मुस्तैदी से ड्यूटी निभा रही हैं ताकि अन्य राज्यों का धान पंजाब की मंडियों में प्रवेश न कर सकें।

    अपनीत रियात ने इस दौरान किसानों को धान की पराली को आग न लगाने की अपील करते हुए उसका खेत में ही प्रबंधन करने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में किसानों विशेष तौर पर बहु गिनती छोटे व सीमांत किसानों के लिए सरकार की ओर से खेती मशीनरी को किराए पर लेने के लिए वाजिब रेट निर्धारित किए गए हैं। कस्टम हायरिंग सैंटरों व उनके पास उपलब्ध मशीनों की सूची संबंधित ब्लाक कृषि कार्यालय से संपर्क कर ली जा सकती हैं। इसके अलावा सरकार की ओर से रिमोट सैसिंग सैंटर लुधियाना की सहायता से मशीनों की उपलब्धता दर्शाने के लिए एक मोबाइल एप आई-खेत पंजाब भी तैयार किया गया हैं, जिसमें किसानों अपने आपको रजिस्टर कर अपनी लोकेशन से कुछ किलोमीटर की सीमा के अंदर उपलब्ध कस्टम हायरिंग सैंटरों व उनके पास उपलब्ध मशीनों का विवरण प्राप्त कर मशीनों को किराए पर बुक करवा सकते हैं। उन्होंने किसानों को वातावरण की शुद्धता बरकरार रखने व जमीन की उपजाऊ शक्ति बरकरार रखने के लिए किसान पराली व फसलों के अवशेषों को आग न लगाने की पुरजोर अपील की।

    इस मौके पर एस.पी. रमिंदर सिंह, एस.डी.एम. होशियारपुर शिव राज सिंह बल, एस.डी.एम मुकेरियां अशोक कुमार, एस.डी.एम दसूहा रणदीप सिंह हीर, एस.डी.एम. गढ़शंकर अरविंद कुमार, जिला खाद्य व आपूर्ति कंट्रोलर रेणु बाला वर्मा के अलावा अन्य अधिकारी भी मौजूद थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here