खामोश ! प्रशासन सो रहा है, अवैध माइनिंग से इलाके का भूगोल बिगड़ा , विरोध में संघर्ष कमेटी

    0
    65

    सेखों । जनगाथा । गढ़शंकर । स्थानीय तहसील के हिमाचल प्रदेश के साथ लगते नीम पहाड़ी गांवों में हिमाचल प्रदेश के करैशर मालिकों द्वारा रेत

    ,पत्थर , बजरी की हो रही अवैध माइनिंग के विरोध में कंडी संघर्ष कमेटी के सूबा प्रधान कामरेड दर्शन सिंह मट्टू की अगवाई में नंगल रोड़ पर स्थित गा

    ंव साहपुर नजदीक विशाल रोष प्रदर्शन किया गया । रोष प्रदर्शन को संबोधन करते हुए कामरेड मट्ट्ू ने कहा कि करैशर मालिकों ने शिवालिक की

    पहाडिय़ों में की जा रही अवैध माइनिंग करके इलाके का भूगोल बुरी तरह से विगड़ गया है और इस माइनिंग कारण शिवालिक के पहाड़ों का बजूद मिट

    गया । उन्होनें कहा कि हिमाचल प्रदेश के करैशरों से निकलते माइनिंग सर्मगरी के भारी वाहन पंजाब के जंगलों का करीब 18 किलोमीटर लंबा रास्ता

    बर्वाद करके कंड़ी नहर की पांच किलोमीटर लंबी पटड़ी भी तोड़ रहे हैं पर अवैध माइनिंग करने वाले तत्त्वों से समस्त प्रशासन मिला होने के कारण इस

    मामले के खिलाफ विभाग कोई कार्रवाई नहीं कर रहा । उन्होनें कहा कि इस माइनिंग करके कीमती लकड़ी और शराब की तस्करी के लिए हिमाचल

    प्रदेश से नया रास्ता बन गया है और पंजाब सरकार को मिलीभगत करके चूना लगाया जा रहा है । इस मौके कमेटी के पदाधिकारी कामरेड महा सिंह

    रौड़ी ने कहा कि पंजाब के जल,जंगल और जमीन बचाने के लिए लोगों को आपसी एकजुटता दिखाना समय की बड़ी आवश्यकता है । दिलवाग सिंह

    ने कहा कि कुदरती वसीले बचाने की जगह सरकार खुद इन्हें नष्ट कर रही है । कामरेड रघुनाथ सिंह और वरिंदर सिंह ने इस अवैध खनन के जिम्मेवार

    विभाग के अधिकारियों और माइनिंग करने वाले तत्त्वों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की है। इस प्रदर्शन को खनन रोकू जमीन बचाव संघर्ष क

    मेटी के आगू वरिंदर कुमार कोठी ,जरनैल सिंह सैदों , कामरेड शाम सिंह , धरमिंदर सिंह , जनवादी माहिला सभा के प्रदेशाध्यक्ष बीबी सुभाष मट्टू,

    परमिंदर कित्तना , किमान नेता हरभजन सिंह , महिंदर बडोवाण, प्रेम पालेवाल , सतपाल लट्ठ , मुलाजिम नेता रामजी दास , दिलवाग सिंह महदूद ,

    रणजीत सिंह , शमशेर सिंह आदि उपस्थित थे ।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here