अदालत ने इरादा कत्ल के मामले में चार को सात-सात वर्ष और दो को तीन -तीन साल की सजा सुनाई

    0
    59

    जनगाथा / होशियारपुर/ अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश रणजीत कुमार जैन की अदालत ने इरादा कत्ल के मामले में छह आरोपियों को दोषी मानते हुए चार दोषियों को सात-सात वर्ष की कैद और सात-सात हजार रुपए जुर्माना की सजा सुनाई। जुर्माना न देने पर चारों को छह-छह माह अतरिक्त जेल मे रहना होगा। जब के दो अन्य को तीन-तीन वर्ष कैद और 3750-3750 रुपए जुर्माना की सजा सुनाई। जुर्माना न देने पर दोनों को 15-15 दिन अतरिक्त जेल में रहना होगा। 18 मार्च 2012 को पुलिस थाना गढ़दीवाल को दिए वयान में करनदीप सिंह पुत्र बलवीर सिंह निवासी वार्ड नंबर 6 गढ़दीवाल ने बताया कि वह अपने पिता के साथ कपड़े की दुकान करता है और 17 मार्च शाम को वह अपने मामा शर्णजीत सिंह के साथ कटिंग कराने टांडा रोड़ पर गया था कि उसका मामा दुकान में कटिंग करा रहा था और वह बाहर उसी के मोटर साईकल पीबी-07-वी- 7420 पर ही बैठा था कि उसी समय शेखर अपनी कार पीबी-07एबी-3777 जिसमें चार पांच लड़के सवार थे और सभी के पास हथियार पकड़े थे और शेखर ने ललकारा मार कर कहा कि आज इसे जिंदा नही छोड़ना है और देखते ही करनदीप पर हमला कर दिया। देखते ही देखते कार में से सभी हमलावरों ने निकल कर उस पर हमला कर दिया और बूरी तरह से घायल कर घटना स्थल से फरार हो गए। दोषियों की पहिचान बताते हुए हमलावर शेखर के साथ बिन्द्रपाल पुत्र पन्ना लाल, जतिन्द्र कुमार उर्फ साबी पुत्र सुरिन्द्र पाल, रवि पुत्र सुरिन्द्र पाल, कशमीर कुमार उर्फ मंगा पुत्र बलवीर कुमार और रविन्द्र कुमार उर्फ मोनु पुत्र गुरबचन लाल सभी निवासी गड़दीवाल बताया। पुलिस ने करनदीप के वयानों के आधार पर सभी छह दोषियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था।
    शनिवार को उक्त मामले की सुनवाई करते हुए माननीय अदालत ने शेखर, जतिन्द्र कुमार उर्फ साबी,रवी और कशमीर कुमार को सात-सात वर्ष और बिन्दर पाल और रविन्द्रकुमार उर्फ मोनु को तीन-तीन वर्ष की कैद सुनाई

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here